The Poet

रौनकों, रोशनियों से अगर रूहों के दर्द छुप जाते तो ‘मनु’ तू आज ताज की तरह मकबरा न होता – […]

Read More »

तुम आ गए हो नूर आ गया है नहीं तो चराग़ों से लौ जा रही थी जीने कि तुमसे वजह

Read More »

कब तक उसकी याद में रोएगा ‘मनु’ अश्कों के सैलाबों पर प्यार के पुल नहीं बंधते – राकेश शुक्ल ‘मनु’

Read More »

रौनकों, रोशनियों से अगर रूहों के दर्द छुप जाते तो ‘मनु’ तू आज ताज की तरह मकबरा न होता –

Read More »

प्यार का इज़हार तू क्या करेगा ‘मनु’ कुछ ऐसा सोच जो रकीबों ने ना किया हो – राकेश शुक्ल ‘मनु’

Read More »

Scroll to Top